चाँद पर कौन कौन गया है? (Chand Par Kon Kon Gaya hai) – ये सवाल हमने कई बार अपने जीवन में पढ़ा या सुना होगा तो आज हम इस आर्टिकल में आप सबको उन सभी लोगों के बारे में बताएंगे जो जो चाँद पे जा के अपने देश का परचम लहरा चुके है। इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप सभी को फिर कभी इस सवाल “chand par kon kon gaya” को दुबारा पूछने की जरुरत नहीं पड़ेगी ।

हममे से बहुत सारे ऐसे होंगे जिन्हे चाँद से जुड़े हुए गाने जरूर याद होंगे जैसे की “ये चाँद सा रोशन चेहरा”, “चाँद छुपा बादल में” चाँद वाला मुखड़ा लेके चलो न बाजार रे” आदि लेकिन चाँद तक सफर करने वालों के नाम याद नहीं होंगे । चाँद पे सबसे पहले जाने वाले व्यक्ति का नाम ज्यादातर सबको ही पता रहता है, लेकिन उनके बाद कौन कौन गया ये किसी को नहीं पता रहता।

इस आर्टिकल में हम आपको बाकी और व्यक्तियों के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने चाँद पे अपना परचम लहराया है ।

Chand Pe Kaun Kaun Gaya Hai | चाँद पे कौन कौन गया है?

आपको बता दें चाँद पे आजतक केवल 12 लोग ही गए है । ये सभी लोग किस किस देश से तालुक रखते है और किस सन में इन्होने चाँद की चढाई की थी, ये सब जानिये इस आर्टिकल में ।

1> नील आर्मस्ट्रांग (Neil Armstrong)

नील आर्मस्ट्रांग (Neil Armstrong)चांद पर कदम रखने वाले पहले व्यक्ति थे। उनका जन्म 5 अगस्त 1930 को अमेरिका के ओहायो में हुआ था।

अंतरिक्ष यात्री बनने से पहले नील आर्मस्ट्रांग एक परीक्षण पायलट थे। उसने हमेशा एक अंतरिक्ष यात्री बनने का सपना देखा था और उसे मौका तब मिला जब उसे नासा के अंतरिक्ष कार्यक्रम के हिस्से के रूप में चुना गया।

वह 1962 में एक अंतरिक्ष यात्री बने और जेमिनी 8 और अपोलो 11 मिशन के हिस्से के रूप में दो बार अंतरिक्ष में गए।

वह पहली बार 1969 में चांद पर चले थे, जब वह ऐसा करने वाले केवल 12 लोगों में से एक बन गए थे।

चन्द्रमा मिशन की सफलता के बाद, नील आर्मस्ट्रांग को राष्ट्रपति निक्सन द्वारा Presidential Medal of Freedom से सम्मानित किया गया। बाद में, 1978 में अमेरिकी राष्ट्रपति जिमी कार्टर ने उन्हें Congressional Space Medal of Honor प्रदान किया था।

25 अगस्त, 2012 को हृदय शल्य चिकित्सा की जटिलताओं से उनकी मृत्यु हो गई।

2> बज एल्ड्रिन (Buzz Aldrin)

बज़ एल्ड्रिन चाँद पर जाने वाले दूसरे व्यक्ति थे । वह भी एक अमेरिकी है और वर्तमान में फ्लोरिडा में रह रहे है। बज़ एल्ड्रिन भी अपोलो 11 मिशन के दौरान नील आर्मस्ट्रांग के साथ उसी वाहन में चाँद पर गए थे। उस समय वो ल्यूनर मोड्यूल पायलट थे।

सन 2016 में बज़ एल्ड्रिन ने 86 साल की उम्र में उत्तरी ध्रुव की यात्रा भी की थी। उनके पास वहां यात्रा करने वाले अब तक के सबसे उम्रदराज व्यक्ति होने का विश्व रिकॉर्ड है।

3> पीट कॉनराड (Pete Conrad)

पीट कॉनराड चाँद पे जाने वाले तीसरे व्यक्ति है जो सन 1969 में अपोलो -12 मिशन चन्द्रमा पर गए थे । पीट कॉनराड नासा के लिए काम किया करते थे तथा एक वैज्ञानिक भी थे । पीट कॉनराड कोसन 1978 में उनके कार्य के लिए Congressional Space Medal of Honor से भी सम्मानित किया गया था । वह सन 1973 में नासा से रिटायर्ड हुए थे और उसके बाद बिजनेसमैन के रूप में कार्य करने लग।  सन 1999 में उनकी मृत्यु एक एक्सीडेंट की वजह से हुई थी ।

4> एलन बीन (Alan Bean)

एलन बीन चाँद पर जाने वाले चौथे व्यक्ति है। एलन बीन सन 1969 के अपोलो 12 मिशन में शामिल थे। एलन बीन का जन्म 1932 में हुआ था। उन्होंने 1962 से 1981 तक एक अंतरिक्ष यात्री के रूप में कार्य किया और अपोलो 12 मिशन का हिस्सा थे। वह 1963 में नासा के लिए इंजीनियर बने और स्काईलैब कार्यक्रम पर काम किया। अंतरिक्ष अन्वेषण में उनका योगदान अमूल्य है।

सन 2018 में 86 की उम्र में एलन बीन की मृत्यु हुई ।

5> एलन शेपर्ड (Alan Shepard)

एलन शेपर्ड चाँद पे जाने वाले पांचवे व्यक्ति है ये 1971 अपोलो 14 मिशन में शामिल थे। सन 1974 में रिटायरमेंट के बाद वे बैंकिंग और रियल एस्टेट में कार्य करने लगे । इनकी मृत्यु 1988 में 74 की आयु में हुई ।

6> एडगर मिशेल (Edgar Mitchell)

एडगर मिशेल का जन्म 17 सितम्बर 1930 को Texas में हुआ । वे अपोलो 14 के तहत चाँद पे जाने वाले छठे व्यक्ति बने । इसके अतिरिक्त, उन्होंने ‘द वे ऑफ द एक्सप्लोरर’ नामक पुस्तक भी लिखी। एडगर मिशेल 1974 में सम्पूर्ण रूप से नासा से retired होने के बाद किसी रिसर्च कंपनी के साथ जुड़े रहे।

एडगर मिशेल का निधन 2016 में स्ट पाम बीच, फ्लोरिडा में हुआ।

7> डेविड स्कॉट (David Scott)

डेविड स्कॉट पायलट और नासा के अंतरिक्ष यात्री हैं, जो चंद्रमा पर चलने वाले सातवें व्यक्ति थेवे अपोलो 15 हिस्सा बने और इसके साथ साथ अपोलो 9 और जैमिनी 8 का भी हिस्सा रहे । सन 1974 में रिटायर्ड होने के बाद वो एक मशहूर लेखक के रूप में प्रशिद हुए ।

8> जेम्स इरविन (James Irwin)

जेम्स इरविन चाँद पे जाने वाले आठवें व्यक्ति थे। वे अपोलो 15 के चंद्र मॉड्यूल पायलट थे। वे एक वायु सेना के परीक्षण पायलट, अंतरिक्ष यात्री और एक वैमानिकी इंजीनियर थे। जेम्स इरविन का जन्म 1930 में Pittsburgh, Pennsylvania में हुआ और उनकी मृत्यु हार्ट अटैक के कारण 1971 में हुई।

9> जॉन यंग (John Young)

सन 1972 में जॉनयंग चाँद पे जाने वाले नौवें व्यक्ति है। जॉन यंग नासा के सबसे कुशल अंतरिक्ष यात्रियों में से एक थे । वे अपोलो 16 मिशन में एक कमांडर के तौर पर चांद पर गए थे। जॉन यंग का जन्म 24 सितम्बर सन 1930 को San Francisco, California, U.S. में हुआ था।

जॉन यंग ने अपोलो 16 के अलावा, जेमिनी 3, जेमिनी, अपोलो 10, STS-1 और STS-9 मिशन किए हैं। उनके पास अंतरिक्ष में छह उड़ानों का विश्व रिकॉर्ड है।

05 जनवरी, 2018 को 87 वर्ष की आयु में Houston, Texas में जॉन यंग कीनिमोनिया के कारण मृत्यु हो गई।

10> चार्ल्स ड्यूक (Charles Duke)

चार्ल्स ड्यूक चंद्रमा पर कदम रखने वाले 10वें व्यक्ति थे। वह 1972 में अपोलो 16 मिशन में शामिल थे, इस दौरान वे चांद पर गए थे।

उनका जन्म 03 अक्टूबर,1935 को Charlotte, North Carolina, U.S. में हुआ था और वे वहीं पले-बढ़े।

11> यूजीन सेरनन (Eugene Cernan)

यूजीन सर्नन चांद पर कदम रखने वाले दुनिया के ग्यारहवें व्यक्ति थे। सन अक्टूबर 1963 में नासा द्वारा चुने गए 14 अंतरिक्ष यात्रियों में से एक थे, और केवल तीन पुरुषों में से एक ने दो बार चंद्रमा पर उड़ान भरी। अपने पहले मिशन पर, वह 1966 में जेमिनी IX-A के लिए पायलट थे और 1969 में वे अपोलो 10 के लिए चंद्र मॉड्यूल पायलट बने। उन्होंने अपोलो 17 के कमांडर के रूप में उड़ान भरी, जो 11 दिसंबर 1972 को उतरा।

यूजीन सर्नन का जन्म 14 मार्च 1934 में Chicago, Illinois, United States हुआ था। वह 16 जनवरी, 2017 को Houston Texas में इस दुनिया से चले गए।

12> हैरिसन श्मिट (Harrison Schmitt)

हैरिसन श्मिट चांद पर जाने वाले दुनिया के 12वें व्यक्ति थे। हैरिसन श्मिट का जन्म 03 जुलाई 1935 में Santa Rita, New Mexico, U.S. हुआ। वह केवल दो लोगों में से एक थे जो वैज्ञानिक और अंतरिक्ष यात्री दोनों थे। टीवी पर अपोलो 11 चंद्रमा को उतरते हुए देखने के बाद श्मिट को अंतरिक्ष यात्रा में दिलचस्पी हो गई। वह 1972 में अपोलो 17 मिशन के दौरान चंद्रमा पर उतरने वाले अंतरिक्ष यात्रियों में से एक थे। हैरिसन श्मिट 1975 में नासा से रिटायर्ड हुए और उसके बाद उन्होंने कई विश्वविद्यालय में पढ़ने के कार्य भी किया ।

निष्कर्ष:

हमने इस पोस्ट के माध्यम से आपको “chand pe kaun kaun gaya hai” के सवाल का जवाब देने का प्रयास किया है। आशा करता हूँ की आपको हमारा संछेप में दिया गया ये पोस्ट अच्छा लगा होगा। आप सब viewers भी हमें Comments के द्वारा बता सकते है की आपको हमारा ये पोस्ट “चाँद पर कौन कौन गया है?” कैसे लगा|